Thursday, 22 August 2019

जिंदगि मे घमंड मत करना

जिंदगि मे घमंड मत करना


#एक बार की कहानी सुनता हूँ और बढी मजेदार है। #
  #ये कहानी एक बेटे और पिता की है। #

☝एक बार की बात है एक गाव में एक व्यक्ति👳‍♀ रहता था जो बहुत अच्छा चित्रकार✍ था वो व्यक्ति चित्रकारी करके अपने बनाए चित्र को बाजार में बेचता ♂️और उससे उसका घर चलता था। 


🛷कुछ दिनों बाद उनके घर एक 🤷‍♂बेटा हुआ और उसको बचपन से ही चित्रकारी करने का 🙇🏻‍♀सौक था। और वो भी अपने #पिताजी से सिख सीख कर #वो भी एक अच्छा #चित्रकार बन गया और वो भी अपने पिताजी #के जैसे चित्रकारी करना सिख गया। 
         #फिर कुछ दिनों बाद वो भी अपने पिताजी के जैसे ही अपने बनाए हुए चित्र को बाजार में बेचने🚴‍♀ लिजाता और फिर घर वापस आता पर वह खुश नहीं था । #उसके पिताजी ने बोला तुम खुश 🥋क्यू नहीं हो तो उसने कहा बोले पिताजी आप अपने चित्र को 🤑500 रुपये मे बेचते थे पर मैंने शिर्फ🤑 100 रुपये में इसलिए मै खुश नही हू। तो पिताजी बोले बेटा कोई बात नहीं तुम और सुधार करो कि अपने चित्र को 1🎣000 रुपये में बेच सकोगे। फिर लड़के ने दूसरा चित्र बनाया और बाजार ले गया।🛷 फिर घर वापस आया फिर भी वह खुश नहीं था पर वो आज अपने🤨 चित्र को 300 रुपये में बेच आया था पिताजी बोले बेटा कोई# बात नहीं तुम और सुधार करो। 😇फिर उसने तीसरा चित्र बनाया और बाजार ले गया फिर घर वापस आया पर आज लड़का खुश था क्यूंकि उसने आज वो चित्र आज 🤑500 रुपये में बेचा था अपने पिताजी के बराबर तो पिताजी बोले 
#तुम और सुधार🏌 करो कि अपने चित्र को 🤑1000 रुपये में बेच सकोगे। लड़का बोला ठीक है पिताजी फिर लड़का चौथा चित्र बनाया और ♀️बाजार ले गया और घर वापस #आया आज लड़का बहुत खुश था बोले पिताजी बेटा आज 😃इतना खुश क्यू हो तो बेटा बोला पिताजी मै आज अपने चित्र 700 रुपये में बेच आया इसलिए मै खुश हू। पिताजी बोले #
#तुम और 😵सुधार करो कि अपने चित्र को 🤑1000 रुपये में बेच सकोगे। #पर अब लड़के ने बोला पिताजी आप रहने दो। #मैंने आज अपने चित्र को आपसे ज्यदा रुपये में बेचा हू। अब #आप मेरे को क्या बतायेगे। 
#तो पिताजी ने बड़े 😲सालीनता से जवाब दिया बोले मैंने भी अपने पिताजी को यही कहा था #इसलिए मै आज भी अपने# चित्र को 🤑500 रुपये से ज्यदा का नहीं बेच पाया हू। तो तुम भी अब 🤑700 से ज्यदा का नहीं बेच पाओगे।
#ताश के पत्तों से महल नहीं बनता नदी को रोकने से समंदर नहीं बनता बढ़ाते रहो जिंदगी में 😶कदम क्योंकि कोई एक जिससे सिकंदर नहीं बनता।#

#वह शौक भी पूरे होंगे वो इरादे भी पूरे होंगे।
तु मेहनत 🤯तो कर रात में देखे हुए ख्वाब भी ब हर पुरे हो।#

#फर्क होता है खुदा और फकीर में फर्क होता है किस्मत और लकीर में।अगर कुछ चाहो तो ना मिले तो🤑 समझ लेना कुछ अच्छा लिखा है तक़दीर में#।

#कहते नहीं बनता कुछ करना पड़ता है।
भुलाकर सारी मुश्किलों को अपनी जीत पर अडना पड़ता है🤩।इतना आसान नहीं है सपनों का हकीकत हो जाना।कभी दुनिया से तो कभी खुद से लडना पड़ता है।#
🤩🤩
जिंदगि मे कभी घमंड मत करना

Thanks
See you again 
Share


1 comment: